TopUtter Pradeshvaranasi

एक प्रेम ऐसा भी : बेजुबानों को ही बना लिया अपना “हमसफ़र”

अंकिता यादव,

वाराणसी। बहुत से लोग है जो जानवरों से प्यार और लगाव रखते है, तो वहीं कुछ लोग ऐसे भी है जो केवल इन्हें बस एक स्टेटस सिम्ब्ल के तौर पर घर पर पालते है। मगर आज हम आपको एक ऐसी महिला के बारे में बताते है, जिनका जानवरों के प्रति कुछ ऐसा अनोखा प्रेम है कि इन्होंने इन्हें ही अपना हमसफ़र बना लिया है। बेजुबानों के प्रति अपने इस विशेष प्रेम और मोह माया में इस महिला ने अपना जीवन इनके लिए ही समर्पित कर दिया है। इनकी आधी उम्र बीत चली है, लेकिन अब तक इन्होंने शादी नहीं की अपना खुद का परिवार नहीं बसाया।  

हम बात कर रहें वाराणसी की सिकरौल निवासी स्वाति बलानी की। इनकी उम्र 40 साल है, और ये बचपन से ही जानवरों से विशेष लगवा रखती है। जो लोग अपने जानवरों को किसी कारणवश घर से बाहर निकाल देते है, स्वाति उन्हें अपनाती है। जहां हर महिला सोचती है कि उसका एक सुखी परिवार और वैवाहिक जीवन हो, वहीं स्वाति की सोच इससे कहीं परे है। इन्होंने अब तक क्यों शादी नहीं कि इसकी वजह जानकर आप थोड़े हैरान हो जाएंगे। स्वाति से जब उनके शादी न करने की वजह पूछी गईं तो उन्होंने कहा कि, अगर वो शादी कर लेती तो उनका यह परिवार छूट जाता जो उन्होंने इन बेजुबान जानवरों के साथ बनाया है।

“मां की तरह रखती है जानवरों का ख्याल” 

स्वाति ने अपने घर पर ही इन जानवरों के साथ अपनी एक प्यारी सी दुनिया बसा रखी है। बता दें की स्वाति के पास अभी 20 कुत्ते, 17 बिल्लियां, 2 सांड तकरीबन 5 दर्जन अलग अलग प्रजाति की पक्षियां है। इन जानवरों का स्वाति बिल्कुल एक मां की तरह ख्याल रखती है।

“ये बेजुबान ही है स्वाति का परिवार”

स्वाति ने बताया कि, उन्हें बचपन से जानवरों से लगाव रहा है, लेकिन ये लगाव कब इतना बढ़ गया कि पता ही नहीं चला उन्होंने इन्हें ही अपना परिवार बना लिया। उनके पास कई तरह के जानवर है, और उन सभी में आपस में बहुत प्यार है। उन्होंने कहा कि वह ऐसे जानवरों को अपनाती है, जिन्हें लोग छोड़ देते है या फिर जो जानवर उन्हें घायल अवस्था में मिलते है। स्वाति के पास स्ट्रीट डॉग और ब्रीड डॉग दोनों है। उनके पास एक डॉग ऐसा भी आया था, जिसकी पूरी फैमिली की एक्सीडेंट में मौत हो गई थी और 12 साल के कुत्ते को रखने को कोई तैयार नहीं था, क्योंकि उनको लगता उनका उसके साथ लगाव नहीं हो पाएगा तो हमने उसे अपने घर रखा। स्वाति का कहना है कि, उनका पूरा जीवन इन बेज़ुबानों लिए ही समर्पित है, यही इनका परिवार है।

liveupweb
the authorliveupweb