BJPUP-GOVERMENTUTTAR, PRADESH,varanasi

कल्याण सिंह श्रद्धांजलि :- दृढ़ निश्चय और मजबूत इच्छाशक्ति ने कल्याण सिंह को बनाया राम मंदिर आंदोलन का महानायक : सुनील ओझा

वाराणसी:- राम मंदिर आंदोलन के महानायक कल्याण सिंह को प्रदेश सरकार के मंत्री, विधायक, प्रदेश, क्षेत्र, जिला पदाधिकारियों एवं भाजपा कार्यकर्ताओं ने अर्पित किए श्रद्धा सुमन


            वाराणसी 24 अगस्त :- राम मंदिर आंदोलन के महानायक, राजस्थान के पूर्व राज्यपाल, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के निधन पर रोहनियाँ स्थित भाजपा के क्षेत्रीय कार्यालय पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा में प्रदेश सरकार के मंत्री,स्थानीय विधायक, प्रदेश, क्षेत्र, जिला पदाधिकारियों सहित सैकड़ों की संख्या में भाजपा कार्यकर्ताओं ने श्रद्धा सुमन अर्पित किए।
         शोक सभा में श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए भाजपा के प्रदेश सह प्रभारी सुनील ओझा ने कहा कि कल्याण सिंह का पूरा जीवन जन कल्याण के लिए समर्पित रहा। उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन में  समाज के पिछड़े और उपेक्षित लोगों की हर संभव मदद की और उनके उत्थान के लिए कार्य किया। मुख्यमंत्री रहते हुए उनके द्वारा किये गये कार्यों को जनता आज भी याद करती है।
      प्रदेश सह प्रभारी सुनील ओझा ने कहा कि कल्याण सिंह राम मंदिर आंदोलन के महानायक थे। कारसेवकों पर गोली न चलाने के अपने निर्णय पर वे अडिग थे। उनका मानना था मेरी कुर्सी भले ही चली जाए लेकिन मैं  कारसेवकों पर गोली नही चलाउंगा। बाबरी विध्वंस की पूरी जिम्मेदारी उन्होंने अपने ऊपर ली और मुख्यमंत्री की कुर्सी को त्याग दिया ऐसे रामभक्त कल्याण सिंह ने करोडो रामभक्तों के दिलो में अपना स्थान बना लिया।
        श्री ओझा ने कहा कि 1967 में पं दीनदयाल उपाध्याय की उपस्थिति में कल्याण सिंह पहली बार जनसंघ के टिकट पर विधायक बने और 9 बार चुनाव जीते। मुख्यमंत्री रहते हुए उनके द्वारा लिए गये कड़ा एवं मजबूत निर्णयों को आज भी प्रशासनिक अधिकारी याद करते है। सरकार कैसे चलाई जाती है ये कल्याण सिंह ने अपने मुख्यमंत्रित्व काल में साबित कर दिया।
          राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार रविन्द्र जायसवाल ने अपने श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए कहा कि कल्याण सिंह का पूरा राजनीतिक जीवन सिद्धांत एवं आदर्शो भरा रहा। उन्होनें कभी भी अपने सिद्धांतों से समझौता नहीं किया। मुख्यमंत्री रहते हुए अपने कार्यकाल में उन्होंने गुड गवर्नेंस देकर जनता के बीच जो मिसाल पेश की वो आज भी याद की जाती है।
        श्री जायसवाल ने कल्याण सिंह के प्रदेश अध्यक्ष का कार्यकाल याद करते हुए कहा कि वे कार्यकर्ताओं के प्रति बेहद संवेदनशील थे। उनके हर दुख सुख में कल्याण सिंह शामिल रहते थे। श्री जायसवाल ने कहा कि राम मंदिर आंदोलन के महानायक कल्याण सिंह ने अपने मुख्यमंत्रित्व काल में जो कार्य कर दिखाया वो आज इतिहास में दर्ज है और जो आने वाली पीढ़ी को प्रेरणा देता रहेगा।
          जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा ने कल्याण सिंह को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए कहा कि कल्याण सिंह जमीन से जुड़े जन नेता थे। राम मंदिर आंदोलन के सूत्रधार कल्याण सिंह ने बाबरी विध्वंस के बाद अपनी कुर्सी से तनिक भी मोह न करते हुए सत्ता का त्याग किया और ईमानदारी एवं कर्तव्यपरायणता की ऐसी मिसाल पेश की जो इतिहास में दर्ज हो गयी। प्रभु राम लला उनको अपने श्रीचरणों में स्थान दे।
       
               श्रद्धांजलि सभा का संचालन क्षेत्रीय महामंत्री अशोक चौरसिया ने किया।
               श्रद्धांजलि सभा के प्रारंभ में भाजपा पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने कल्याण के तेल चित्र पर पुष्प अर्पित कर अपने श्रद्धा सुमन अर्पित किए।
       
 श्रद्धांजलि सभा के अंत में दो मिनट का मौन रखकर गतात्मा की शांति के लिए ईश्वर से की गयी प्रार्थना


         श्रद्धांजलि सभा के अंत में सभागार में उपस्थित भाजपा पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने दो मिनट का मौन रखा व गतात्मा की शांति के ईश्वर से प्रार्थना की।
       
श्रद्धांजलि सभा में इनकी रही उपस्थिति


प्रदेश मंत्री द्वय शंकर गिरी, मीना चौबे, प्रदेश प्रवक्ता अशोक पांडेय, रोहनिया विधायक सुरेंद्र नारायण सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष पूनम मौर्या, दिलीप सिंह पटेल, सुषमा पटेल, प्रदीप अग्रहरि, क्षेत्रीय मीडिया प्रभारी नवरतन राठी, श्रीप्रकाश शुक्ला, राम प्रकाश दुबे, संतोष सोलापुरकर, प्रवीण सिंह गौतम, संजय सोनकर, प्रभात सिंह, जयनाथ मिश्रा, देवेंद्र प्रताप सिंह, सुरेश सिंह, डाॅ सुनील मिश्रा, डाॅ उत्तम ओझा, अरविंद प्रधान, जय प्रकाश जी, रानिका जायसवाल,शैलेन्द्र मिश्रा सहित सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित रहे।
भवदीय 

liveupweb
the authorliveupweb