AASTHA,CDOVARANASIDharmaDMVARANASIjan samsya

जाने क्या है गुप्त नवरात्रि,कैसेहोगी शक्ति स्वरुप देवीयो के दर्शन पूजन

चैत्र और शारदीय नवरात्र के बीच आषाढ़ में गुप्‍त नवरात्र, जानिए पूजन- सिद्धिकाल और घटस्थापना मुहूर्त
ज्योतिषाचार्य पं. अनूप मिश्रा के मुताबिक इस बार आषाढ़ नवरात्रि का शुभारंभ 11 जुलाई से हो रहा है।
 रवि पुष्प नक्षत्र के संयोग से नवरात्र का समापन 18 जुलाई को होगा। इस बार के इस नवरात्र में एक तिथि कम है। जिससे यह नवरात्र आठ दिन का ही है

। चैत्र नवरात्र के बाद अब देवी दुर्गा के भक्तों को गुप्त नवरात्र का इंतजार है। हिंदू पंचांग के अनुसार आषाढ़ माह में गुप्त नवरात्रि पड़ता हैं। आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से आषाढ़ नवरात्रि प्रारंभ होती हैं। आचार्य अनूप मिश्रा के मुताबिक इस बार आषाढ़ नवरात्रि का शुभारंभ 11 जुलाई से हो रहा है। जबकि रवि पुष्प नक्षत्र के संयोग से नवरात्र का समापन 18 जुलाई को होगा। इस बार के इस नवरात्र में एक तिथि कम है। जिससे यह नवरात्र आठ दिन का ही है। ज्योतिषाचार्यो का कहना हैं कि इस बार षष्ठी तिथि का क्षय होने से गुप्त नवरात्र आठ दिन का होगा। गुप्त नवरात्र के दौरान मां दुर्गा की विधि-विधान से पूजा अर्चना की जाती है।

आचार्य अनूप मिश्रा के मुताबिक एक वर्ष में कुल मिलाकर चार नवरात्रि आती हैं। जिसमें से दो गुप्त नवरात्रि के अलावा चैत्र और शारदीय नवरात्रि शामिल हैं।पहली गुप्त नवरात्रि माघ के महीने में आती है और दूसरी गुप्त नवरात्रि आषाढ़ माह में मनाई जाती है। गुप्त नवरात्रि आम नवरात्रि से भिन्न होती है। दरअसल इसमें तांत्रिक सिद्धियों को प्राप्त करने के लिए मां भगवती देवी की आराधना की जाती है। आचार्य अनूप मिश्रागुप्त नवरात्रि में 10 देवियों की पूजा   चैत्र और शारदीय नवरात्रि में मां दुर्गा के 9 स्वरूपों की पूजा की जाती है। जबकि गुप्त नवरात्रि के दौरान 10 देवियों की पूजा की जाती है। इसमें मां काली,  मां तारा देवी, मां त्रिपुर सुंदरी, मां भुवनेश्वरी, मां छिन्नमस्ता, मां त्रिपुर भैरवी, मां धूमावती, मां बगलामुखी, मां मातंगी और मां कमला देवी की पूजा होती है।

आषाढ़ गुप्त नवरात्रि घटस्थापना मुहूर्त 

आषाढ़ घटस्थापना 11 जुलाई को 

घटस्थापना मुहूर्त 05:31 प्रातः से 07:47 प्रातः तक 

-02 घण्टे 16 मिनट की होगी अवधि 

-🌹🙏घटस्थापना अभिजित मुहूर्त 11:59 प्रातः से दोपहर 12:54 बजे तक

-प्रतिपदा तिथि प्रारम्भ 10 जुलाई 06:46 प्रातः तक

प्रतिपदा तिथि समाप्त 11 जुलाई, 07:47 प्रात

शंकर के साथ शक्ति की आराधना : पं.  आचार्य अनूप मिश्रा ने बताया कि धाॢमक दृष्टि से सभी जानते हैं कि नवरात्र देवी स्मरण से शक्ति साधना की शुभ घड़ी है। इस शक्ति साधना के पीछे छुपा व्यावहारिक पक्ष यह है कि नवरात्र का समय मौसम के बदलाव का होता है। आयुर्वेद के मुताबिक इस बदलाव से जहां शरीर में वात, पित्त, कफ में दोष पैदा होते हैं, वहीं बाहरी वातावरण में रोगाणु जो अनेक बीमारियों का कारण बनते हैं। स्वस्थ जीवन के लिये इनसे बचाव बहुत जरूरी है। नवरात्र के विशेष काल में देवी उपासना के माध्यम से खान-पान, रहन-सहन और देव स्मरण में अपनाए  गए संयम और अनुशासन तन व मन को शक्ति और ऊर्जा देते हैं, जिससे इंसान निरोगी होकर लंबी आयु और सुख प्राप्त करता है। धर्म ग्रंथों के अनुसार गुप्त नवरात्र में प्रमुख रूप से भगवान शंकर व देवी शक्ति की आराधना की जाती है।

liveupweb
the authorliveupweb