TopUPvaranasi

काशी में कुटुंब प्रबोधन ने सवा पांच लाख हनुमान चालीसा पाठ के जप का लिया संकल्प

वाराणसी। इस समय पूरा देश कोरोना जीतने की जंग लड़ रहा है। ऐसे में इस विपदा की घड़ी में धर्म की नगरी काशी में भगवान से गुहार लगाते हुए सवा पांच लाख हनुमान चालीसा पाठ जप का संकल्प लिया है। इस अनुष्ठान में आम जनता के साथ तमाम मशहूर हस्तिया भी जुड़ रही है। जिनमे प्रख्यात गायिका अनुराधा पौडवाल जे साथ स्वामी जितेन्द्रानंद सरस्वती शामिल है।

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के कुटुंब प्रबोधन गतिविधि, काशी प्रांत की ओर से आयोजित इस अनुष्ठान में लगातार लोग जुड़कर कोरोना महामारी को इस दुनिया से खत्म होने की प्राथना कर रहे है। महंत आशुतोषानंद महाराज ने कौशल मठ में भी यह कार्यक्रम आयोजित किया है।

प्रबोधन के प्रांत संयोजक डॉ शुकदेव त्रिपाठी ने बताया कि 18 मई को सुबह 8.30 से रात 9.30 बजे तक चलने वाले इस अनुष्ठान से प्रांत के सभी जिलों से 25 हजार से अधिक परिवार जुड़ चुके हैं। डॉ त्रिपाठी ने बताया कि विश्व के सबसे बड़े इस अनुष्ठान सम्मिलित होने वाले लोगों को सर्वप्रथम पांच बार “श्रीराम जय राम जय जय राम” महामंत्र का जाप कर 11 बार श्री हनुमान चालीसा का पाठ करना है। इसके पश्चात् पुनः पांच बार “श्रीराम जय राम जय जय राम” का जप कर श्री हनुमान महाराज से मानव समाज की रक्षा के लिए प्रार्थना करना है।

इसी कड़ी में मानव जाति को कोरोना महामारी से मुक्ति दिलाने के लिए कुटुम्ब प्रबोधन, काशी प्रान्त, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के हनुमान चालिसा पाठ करने के आह्वान के समर्थन में आज दी सेन्ट्रल बार एसोसिएशन वाराणसी के पूर्व अध्यक्ष विवेक शंकर तिवारी ने अपने आवास पर परिजनों के साथ हनुमान चालिसा का 11 बार पाठ किया।

हनुमान चालिसा पाठ के पूर्व आचार्य पंडित राजेन्द्र मिश्र ने विधिविधान से संकल्प व हनुमान जी का पूजन कराया। हनुमान चालिसा पाठ में परिवार से कलावती देवी, डा प्रतिभा, श्रीमती प्रभंजना त्रिपाठी, इंदुशेखर तिवारी, उत्कर्ष तिवारी व कुमारी शैलजा ने सहभागिता की।

ज्ञातव्य है कि कुटुम्ब प्रबोधन काशी प्रान्त के प्रमुख डा शुकदेव त्रिपाठी, विभाग प्रमुख श्री राजेन्द्र प्रताप पाण्डेय, विभाग कार्यवाह त्रिलोक जी व विभाग टोली के सदस्य कविता मालवीय, दयाशंकर मिश्र, रजनीश उपाध्याय, अमित पाण्डेय, विकास सिंह आदि लोग इस अभियान को सफल बनाने में विगत कई दिनों से रात दिन लगे हुए थे और 5 लाख से अधिक परिवारों ने इसमें सहभागिता कर कार्यक्रम को सफल बनाया। देश के अनेक धर्माचार्यों, शिक्षाविदों, सामाजिक कार्यकर्ताओं, संगीतविधा से जुड़े लोगों ने भी कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए आह्वान किया था।

liveupweb
the authorliveupweb