Corona UpdateDMVARANASIjan samsyaSajag PrahariUPUP-GOVERMENTUtter Pradeshvaranasi

कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने की तैयारियां का आगाज़ चिकित्सालयों में पीडियाट्रिक वार्ड के संचालन के लिए प्रशिक्षण शुरू

वाराणसी, 25 जून 2021
कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग हर संभव तैयारी करने में जुट गया है । इसी क्रम में पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय के सभागार में बाल रोग विशेषज्ञ, फिजीशियन, चिकित्सा अधिकारी, स्टाफ नर्स एवं कोविड-19 वार्ड में कार्यरत अन्य कर्मचारियों का छह दिवसीय प्रशिक्षण शुक्रवार को शुरू किया गया। प्रशिक्षण सत्र का शुभारंभ मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ वीबी सिंह व प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डॉ वी शुक्ला के द्वारा किया गया। प्रशिक्षण के दौरान तीसरी लहर आने पर प्रभावित बच्चों को कैसे इलाज देकर बचाया जाए, इसकी ट्रेनिंग डॉ अजय चिकित्सा अधिकारी, डॉ संतोष बाल रोग विशेषज्ञ, यूपीटीएसयू से भावना बिष्ट एवं रजनीकान्त दुबे के द्वारा दी गयी ।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ वीबी सिंह ने बताया कि महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवा के निर्देश के क्रम में कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए एवं बच्चों के उपचार, प्रबंधन आदि के लिए पीडियाट्रिक कोविड केयर का प्रशिक्षण दिया जा रहा है | यह प्रशिक्षण दो-दो बैच में छः दिन तक चलेगा जिसमें जिला चिकित्सालय, जिला महिला चिकित्सालय सहित निजी चिकित्सालयों के बाल रोग विशेषज्ञ, फिजीशियन, चिकित्सा अधिकारी, स्टाफ नर्स स्टाफ को प्रशिक्षित किया गया । उन्होने बताया कि यह प्रशिक्षण विशेषकर एल-2 व एल-1 (प्लस) चिकित्सा इकाइयों के चिकित्सकों, स्टाफ नर्स व पैरा मेडिकल स्टाफ को दिया जा रहा है।
प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डॉ वी शुक्ला ने कहा कि कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर को लेकर शासन पूरी तरह से गंभीर है। इसकी तैयारी पहले से ही की जा रही है। चिकित्सालयों में बच्चों के उपचार की व्यवस्था के लिए हर मुकम्मल तैयारियां की जा रही हैं।
प्रशिक्षण में ट्रेनर के द्वारा बच्चों के लक्षणों की पहचान, खतरे के चिन्हों आदि के बारे में जानकारी दी गयी। इसके साथ ही उपचार के दौरान उन्हें किस मात्रा में कौन सी दवा देनी है, के बार में विस्तार से बताया गया। वार्ड में भर्ती बच्चों के लिए लगने वाले उपकरण के प्रयोग के संबंध में जानकारी दी गई। इसके साथ ही किस उम्र के बच्चों में कितना ऑक्सीजन देना है, के बारे में भी विस्तृत जानकारी दी गई । ऑक्सीजन लेवल की जानकारी के लिए पल्स ऑक्सीमीटर बच्चों में कैसे लगाना है आदि के बारे में विस्तार से जानकारी दी गयी। इसके साथ ही इन्फेक्शन, प्रीवेंशन एवं कंट्रोल (आईपीसी) प्रोटोकॉल के बारे में भी विस्तार से बताया गया।
यह प्रशिक्षण एसीएमओ डॉ पीपी गुप्ता एवं चिकित्सा अधिकारी डॉ अतुल सिंह के पर्यवेक्षण में किया जा रहा है । बाल रोग विशेषज्ञ को ट्रेनिंग के माध्यम से इन बच्चों के लिए किस तरह की इलाज की जरूरत एवं सावधानियां बरतनी होगी आदि के बारे में डॉ अजय चिकित्सा अधिकारी, डॉ संतोष बाल रोग विशेषज्ञ, यूपीटीएसयू से भावना बिष्ट एवं रजनीकान्त दुबे, लखनऊ से ट्रेनिंग लेकर आए हैं और जनपद के चिकित्सा अधिकारियों एवं इससे संबंधित अन्य कर्मचारियों को प्रशिक्षित कर रहे हैं।

liveupweb
the authorliveupweb