LucknowTopUP

सुप्रीम कोर्ट आत्महत्या प्रयास: रिटायर्ड आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने रखा अपना पक्ष


लखनऊ। घोसी सांसद अतुल राय पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली पीड़िता के सुप्रीम कोर्ट के पास आत्मदाह के बाद दिल्ली से यूपी तक हलचल मची हुई है। इसी बीच रिटायर्ड आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने इस घटना क्रम पर अपना पक्ष रखा है। 

इस मामले की जानकारी मुझे सबसे पहले 05 नवंबर 2020 को सत्यम राय के एक विडियो से हुई थी जिसमे वे आत्महत्या करने की बात कर रहे थे। मैंने एसएसपी वाराणसी को इसका संज्ञान लेने का अनुरोध किया था. इसके बाद मुझे सत्यम राय तथा सोनभद्र जेल में बंद एक सजायाफ्ता कैदी अंगद राय की बातचीत की रिकॉर्डिंग तथा सीओ भेलूपुर, वाराणसी की जाँच आख्या प्राप्त हुई।  जाँच आख्या के अनुसार यह मुक़दमा लिखवाने में सत्यम राय तथा अंगद राय की भूमिका संदिग्ध पायी गयी. यह भी लिखा था कि जेल में बंद अंगद राय की मोबाइल संख्या 7634825814  से 12166 बार तथा मोबाइल नंबर 6392335822 से 1506 अर्थात कुल 13672 बार अलग-अलग लोगों से वार्ता हुई। 

मैंने इन तथ्यों की जाँच की मांग की, जिसके बाद पीडिता तथा सत्यम राय ने फोन कर मुझे तमाम अनुचित बातें कहीं. वे 10 नवंबर 2020 को मेरे गोमतीनगर स्थित आवास पर भी पहुँच गए थे, जहाँ इन्होने मेरी पत्नी डॉ नूतन ठाकुर द्वारा की गयी बातचीत को जबरदस्ती फेसबुक लाइव किया और तमाम अभद्र तथा आपत्तिजनक बातें कहीं. मैंने इनके संबंध में थाना गोमतीनगर लखनऊ में मु०अ०स० 991/2020 धारा 504, 506, 507 IPC दर्ज कराया था। 
मेरी जानकारी में अभी तक सोनभद्र जेल से 13672 बार हुई बातचीत के संबंध में कोई भी कार्यवाही नहीं हुई है, जो एक गंभीर मामला है जिसके संबंध में मैं लगातार कार्यवाही की मांग कर रहा हूँ. इसके अतिरिक्त इस मामले से मेरा कोई मतलब नहीं है तथा समस्त आरोप निराधार हैं.
मैं इन दोनों लोगों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूँ। 

liveupweb
the authorliveupweb