Big NewsRailwayTop

कोरोना संकट में ऑक्‍सीजन पहुंचाने के लिए भारतीय रेलवे मध्य प्रदेश, दिल्ली और उत्तर प्रदेश समेत अन्‍य राज्‍यों में चलायेगा ऑक्‍सीजन एक्सप्रेस 

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस संक्रमण का तीव्र गति से प्रसार हो रहा है, लगातार कोरोना के मामलों का आकड़ा बढ़ता ही जा रहा है।  इसके साथ ही देश के कई राज्यों में ऑक्सीजन की भारी कमी की खबरें आ रही है। ऐसे में रेलवे इस कमी को पूरा करने के लिए सोमवार यानी आज से ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ ट्रेन चलाने जा रहा है। यह ऑक्‍सीनज एक्‍सप्रेस ट्रेन ग्रीन कोर‍िडोर के जर‍िए महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, गुजरात, दिल्ली और उत्तर प्रदेश समेत अन्‍य राज्‍यों में सप्‍लाई की जाएगी। 


रेल मंत्रालय ने एक बयान में यह जानकारी दी है। महाराष्ट्र से खाली टैंकर सोमवार को चलेंगे जो विशाखापत्तनम, जमशेदपुर, राउरकेला, बोकारो से ऑक्सीजन उठाएंगे । रेलवे ने बताया कि टेक्निकल ट्रायल्स के बाद खाली टैंकरों को कलमबोली/बोइसर से मुंबई भेजा जाएगा और फिर वहां से वाइजाग जमशेदपुर/राउरकेला/बोकारो भेजा जा रहा है। वहां इनमें लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन भरी जाएगी। कोविड संक्रमण के गंभीर मामलों के इलाज में ऑक्सीजन की अहम भूमिका है।  बता दें क‍ि कई राज्‍यों के मुख्‍यमंत्र‍ियों ने केन्‍द्र की नरेंद्र मोदी सरकार को पत्र ल‍िखकर जल्‍द ऑक्‍सीजन की सप्‍लाई करने की मांग की है। इस पर केन्‍द्र सरकार ने देश के विभिन्न स्वास्थ्य केंद्रों में 162 प्रेशर स्विंग ऐड्सॉर्प्शन (पीएसए) ऑक्सीजन संयंत्र लगाने की पहल की है. वहीं, रेलवे ने आज से ऑक्सीजन की ढुलाई के लिए विशेष रेलगाड़ी चलाने की घोषणा की है। 

रेलवे अध‍िकार‍ियों ने रव‍िवार को इसकी जानकारी दी। वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि स्वास्थ्य केंद्रों में 162 पीएसए ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित करने का कार्य चल रहा है और 24 घंटे का प्रकोष्ठ राज्यों के साथ समन्वय कर रहा है। मंत्रालय ने ट्वीट किया क‍ि इनसे मेडिकल ऑक्सीजन क्षमता 154.19 एमटी (मीट्रिक टन) बढ़ जाएगी। पीएसए संयंत्र ऑक्सीजन का उत्पादन करते हैं और अस्पतालों को चिकित्सा ऑक्सीजन की अपनी जरूरत के संदर्भ में आत्मनिर्भर बनने में मदद करते हैं। इनसे चिकित्सा ऑक्सीजन की आपूर्ति को लेकर नेशनल ग्रिड पर बोझ भी घटेगा।

मंत्रालय ने इससे पहले 50,000 मीट्रिक टन चिकित्सा ऑक्सीजन के आयात के लिए निविदा निकालने का निर्णय लिया है। वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि रेमडेसिविर दवा का उत्पादन दोगुना करने, निर्बाध ऑक्सीजन की आपूर्ति करने और कोविड-19 टीका मुहैया कराने के साथ-साथ स्वास्थ्य अवसंरचना को बढ़ाने के लिए राज्यों की पूरी मदद की जा रही है.

कोविड मरीजों के लिए 3 लाख आइसोलेशन बेड

इस बीच रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि दिल्ली के शकूरबस्ती स्टेशन पर 50 कोविड-19 आइसोलेशन कोच तैयार हैं जिनमें 800 बिस्तरों की सुविधा है। इसी तरह आनंद विहार स्टेशन पर 25 कोच कोरोना मरीजों के लिए उपलब्ध होंगे। उन्होंने कहा कि राज्यों की मांग पर रेलवे देशभर में 3 लाख से अधिक आइसोलेशन बेड्स का इंतजाम कर सकती है।

liveupweb
the authorliveupweb