UPUP-GOVERMENTUtter Pradeshvaranasi

वाराणसी नगर निगम के कार्यकारिणी की बैठक गरमा गर्मी के साथ बिना नतीजे के ही हुई समाप्त 

वाराणसी नगर निगम वाराणसी कार्यकारिणी की बैठक आरोप प्रत्यारोप के बीच बिना किसी नतीजे के समाप्ति घटना के बारे में महापौर जायसवाल में बताया कि वाराणसी नगर निगम कार्यकारिणी की बैठक बिना नतीजे के समाप्त हो गई सम्मानित पार्षदों का आरोप है कि नगर निगम भी कोविड-19 से प्रभावित था जिसके कारण नगर क्षेत्र का मूलभूत विकास नहीं हो पाया जिसके कारण पार्षद गण काफी नाराज थे और उनका आरोप सर्वाधिक अधिकारियों का था कि अधिकारी पार्षद गण का क्षेत्र में काम विकास का नहीं कर रहे हैं वह दूसरी तरफ कांग्रेस पार्षद गण के नेता प्रतिपक्ष सीताराम केसरी ने आरोप लगाया कि जब से पार्षद गण शपथ लिए हैं धीरे-धीरे 5 वर्ष बीतने जा रहा है और जब भी अपने क्षेत्र में विकास के विषय पर नगर आयुक्त से चर्चा करते हैं नगर आयुक्त अपने किसी मात हट को फोन थमा कर बात नहीं करते हैं पार्षद गण के क्षेत्र का विकास ना होने से जनता के बीच पार्षद अपमानित होते हैं जबकि नगर निगम में 14वें वित्त आयोग एवं अवस्था अपना निधि का करोड़ों रुपया पड़ा हुआ है और विकास के धन का उपयोग ना करने के कारण वह धन वापस चला जाएगा जिसके कारण पार्षद गण बार-बार उपरोक्त धन का विकास क्षेत्र में उपयोग करने का अनुरोध करते हैं लेकिन नगर आयुक्त कार्यकारिणी में हुए चर्चा के बाद विकास कार्यों को नहीं करते हैं और यदि नगर आयुक्त से इस विषय पर बात किया जाता है तो नगर आयुक्त फोन ही नहीं उठाते हैं और पार्षदों को उल्टा सीधा जवाब देते हैं ऐसे में कार्यकारिणी की बैठक जो असामान्य थी उसका कोई मतलब नहीं था क्योंकि जिस कार्यकारिणी द्वारा विकास के लिए कराए गए कार्य को नगर निगम के अधिकारी ना करें ऐसे कार्यकारिणी का कोई मतलब नहीं है

liveupweb
the authorliveupweb