DMVARANASISOCIALTopUPvaranasi

Varanasi : कोविड की तर्ज पर वायरल, टाइफाइड, मलेरिया आदि के लिए भी चलाया जाएगा अभियान – जिलाधिकारी

वाराणसी। जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक  डीएम कैंप कार्यालय पर हुई जिसकी अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने कोविड थर्ड वेव की तैयारी, डेंगू, वायरल फीवर, टाइफाइड तथा मलेरिया से बड़े पैमाने पर  प्रभावित हो रहे लोगों के इलाज की व्यवस्था तथा  तैयारियों की समीक्षा की।उन्होंने बैठक के दौरान कहा कि बड़ी संख्या में वायरल फीवर, टाइफाइड तथा मलेरिया से लोग बीमार हो रहे हैं ऐसे मरीजों की मॉनिटरिंग कोविड-19 की तर्ज पर किये जाने हेतु मुख्यमंत्री द्वारा निर्देश जारी किये गये हैं। इसके लिये कोविड कमांड कंट्रोल रूम से कल से ही अभियान शुरू किये जाने का निर्णय लेते हुए कार्य प्रारम्भ करने का निर्देश दिया।

वायरल, टाइफाइड आदि से  जिन क्षेत्रों में अधिक संख्या में लोग प्रभावित  हो रहे हैं ऐसे ब्लैक स्पॉट चिन्हित करते हुए वहीं नगर निगम, पंचायती राज तथा स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी संयुक्त रूप से अपना उत्तरदायित्व निभाए। उन्होंने अधिक से अधिक टेस्टिंग बढ़ाने पर भी जोर देते हुए  सरकारी तथा निजी अस्पतालों से भी आंकड़े इकट्ठे करने का निर्देश दिया। कोविड  वैक्सीनेशन की धीमी प्रगति तथा लक्ष्य से पीछे होने पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए संबंधित अधिकारी को निर्देशित किया की 30 सितंबर तक 100% वैक्सीनेशन का कार्य पूरा कराने के लिए कार्ययोजना प्रस्तुत करें। 

11 सितंबर से 20 दिनों के अंदर बचे हुए 11 लाख लोगों को प्रतिदिन एक लाख के हिसाब से वैक्सीनेशन कराना सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री द्वारा गोद लिये गये  हाथी बाजार स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर नए भवन के निर्माण की समीक्षा करते हुए  कार्य की धीमी गति पर नाराजगी जताई तथा  31 अक्टूबर तक इसे चालू करने का निर्देश दिया। कोरोना की तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए शहरी  तथा ग्रामीणों क्षेत्रों के सभी अस्पताल एवं स्वास्थ्य केंद्रों पर बेड तक पाइप लाइन बिछाने और ऑक्सीजन युक्त  बेड तैयार रखने का निर्देश दिया। इसके लिए जिन सीएचसी व  अस्पतालों में  पाइपलाइन  का कार्य  अवशेष है उसे तत्काल पूरा करने का निर्देश दिया।

 

दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल के  एमसीएच विंग, कबीर चौरा अस्पताल के एमसीएच विंग  तथा मुख्य भवन में ऑक्सीजन पाइपलाइन का कार्य तत्काल पूरा कराने का निर्देश दिया। ऑक्सीजन प्लांट के कुशल संचालन के लिए तीन  तकनीशियनों  को रखा गया है  जिनको तीन-चार अस्पताल आवंटित कर दिये जाने, इसके  अलावा अस्पताल के ही किसी कर्मचारी को 2 दिनों में प्लांट ऑपरेटर की ट्रेनिंग दिलाने का निर्देश देते हुए कहा कि इलेक्ट्रीशियन आदि की भी तैनाती रखी जाय।



मोतियाबिंद ऑपरेशन की समीक्षा ने पाया कि जनपद में पर्याप्त नेत्र रोग सर्जन के बावजूद कैटरेक्ट के ऑपरेशन सरकारी अस्पतालों में बहुत कम संख्या में किए गए। उन्होंने निर्देशित किया की सेवापुरी में  मोतियाबिंद के मरीज चिन्हित करने के लिए कैंप लगाया जाय।  अक्टूबर माह में समस्त चिन्हित  मरीजों का ऑपरेशन कानपुर सरकारी खर्चे पर  ले जाकर कराया जाएगा।

शहरी क्षेत्र में प्रसवों की संख्या कम पाये जाने पर  रोष व्यक्त करते हुए इन अस्पतालों  की महिला रोग विशेषज्ञों को  ग्रामीण क्षेत्रों में पोस्टिंग करने का निर्देश दिया।आयुष्मान कार्ड बनाने की धीमी प्रगति पर जमकर डांट लगाई और कहा कि इस माह में कार्य पूरा नहीं हुआ तो ग्रामीण क्षेत्रों में उस गांव की एएनएम तथा ब्लाक पर एमओआईसी का वेतन नहीं आहरित होगा जिस गांव में एक भी आयुष्मान कार्ड यदि बच गया। इसके लिए कैम्प लगाकर अधिक से अधिक कर्मचारियों तथा एचईओ, आयुष्मान मित्र सभी को लगाया जाय। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल, मुख्य चिकित्सा अधिकारी वीबी सिंह सहित सभी चिकित्सक व अधिकारी उपस्थित रहे।

liveupweb
the authorliveupweb