TopUtter Pradeshvaranasi

वाराणसी की ‘एंजल गर्ल’ कोरोना काल में अस्पताल से श्मशान तक कर रहीं लोगों की सेवा


अंकिता यादव ,

वाराणसी। जहां एक ओर कोरोना के खौफ से पड़ोसी, रिश्तेदार सभी अपने ही अपनों से दूर भाग रहे है। हर कोई एक दूसरे से अपना बचाव कर रहा है, कि कहीं वो भी इस वायरस की चपेट में न आ जाएं। वहीं दूसरी ओर वाराणसी की एक बेटी कोरोना के खौफ को छोड़कर लोगों की मदद में जुटी हुई है। सोनम अस्पताल में इलाज से लेकर श्मशान में अंतिम संस्कार तक लोगों की मदद कर रही हैं।

वाराणसी की रहने वाली सोनम सोनम कुमारी चन्द्रवंशी 20 साल की है, उम्र में भले यह छोटी है लेकिन इनका जज्बा इनके उम्र से कहीं बड़ा है। वह महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के बी कॉम द्वितीय वर्ष की छात्रा हैं। सोनम के पिता समाचार-पत्र बेचने का कार्य करते हैं और गृहणी हैं। सोनम की पांच बहनें और एक भाई है। सोनम का कहना है कि उनसे किसी असहाय का दुःख देखा नहीं जाता और वह उनकी मदद के लिए कहीं भी पहुँच जाती हैं। 

सोनम ने बताया कि, समाज के लिए कुछ बेहतर करने की चाह उनके मन में चार साल पहले जागी । जब उन्होंने वाराणसी की सड़कों पर घायल बेजुबान जानवरों की मदद शुरू की तो वह बिल्कुल अकेली थीं। लेकिन उन्होने अपने दृढ़ निश्चय को टूटने नहीं दिया। एक तरफ घर वालों का बिलकुल सहयोग नहीं मिलता था तो वहीं दूसरी ओर घायल बेजुबान जानवरों के इलाज और खाने के लिए पैसों की जरूरत भी पड़ रही थी। सोनम ने किसी के आगे हाथ नहीं फैलाये। कोचिंग के लिए जो उन्हें पैसे मिलते थे वह उससे उनकी मदद करती थीं। जानवरों के इलाज के लिए पशु चिकित्सालयों में डॉक्टरों का सहयोग भी नहीं मिलता था। ऐसे कई संघर्ष सोनम ने अपने शुरुआती दौर में देखे, लेकिन वह तब भी पीछे नहीं हटीं। इसके बाद वह धीरे-धीरे सोशल मीडिया के जरिये लोगों से जुड़ती गईं और उनकी नेक पहल के लिए उनके साथ एक के बाद एक साथी जुड़ते गए। वर्तमान में उनके घर में आठ स्ट्रीट डॉग की देखरेख हो रही है और लगभग 200 से अधिक स्ट्रीट डॉग को रोजाना खाना खिलाने का कार्य करती हैं ।



इस कोरोना काल में जरूरतमंदों की कर रही मदद  

सड़कों पर बेजुबानों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहने वाली सोनम अब इन दिनों अस्पताल में बेसहारा लोगों का सहारा बन रही हैं। वह बताती हैं कि पिछले साल जब वाराणसी में कोरोना की शुरुआत हुयी थी तब से वह इस आपदा में असहाय लोगों की मदद कर रही हैं। वर्तमान स्थिति को देखते हुये वह प्रतिदिन अस्पताल और सड़कों पर लोगों को मुश्किल में देख रहीं हैं तो उनकी मदद के लिए आगे भी आ रही हैं ।

काशी की “एंजल गर्ल” बन गई है सोनम 

सोनम ने बताया कि वह बीते चार सालों से वाराणसी के सड़कों पर बेजुबान जानवरों की सेवा कर रही थीं, लेकिन आपदा के इस दौर में इंसान भी खुद असहाय महसूस कर रहे हैं। बेसहारों के साथ ही जिनके जानने वाले हैं, उन्हें भी लोग कोरोना के डर से छोड़े जा रहे हैं। ऐसे में हम लोग पैसे इक्कठा कर उनका अंतिम संस्कार भी कर रहे हैं, जो अस्पताल में भर्ती हैं और जिन्हें प्लाज्मा की आवश्यकता है, तो उनके लिए भी सोनम लगातार प्रयासरत हैं। सोनम अब तक दर्जनों लोगों की मदद कर चुकी हैं। यही वजह है कि काशी के लोग सोनम को ‘एंजल गर्ल’‘जानवरों की मसीहा’ आदि नाम से जानते हैं और इस नेक काम के लिए उसे सलाम भी करते हैं और उनके जज्बे की तारीफ करते है।

liveupweb
the authorliveupweb